सूचना का अधिकार अधिनियम : ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण से सूचना प्राप्त करने के लिए दिशानिर्देश


संक्षिप्त नाम, सीमा और प्रारंभ

  • “सूचना का अधिकार अधिनियम, 2005" के नाम से जाना जाता है
  • जम्मू और कश्मीर को छोड़कर संपूर्ण भारत पर लागू होता है
  • 12 अक्तूबर, 2005 से प्रभावी हुआ है
  • यह अधिनियम दिल्ली के सूचना का अधिकार अधिनियम, 2001 से अधिक शक्तिशाली और कठोर है

व्याप्ति

  • संसद, विधान सभा द्वारा गठित सभी सरकारी प्राधिकरण, निकाय अथवा संस्थाएं ।
  • संसद, उच्चतम न्यायालय/उच्च न्यायालय/निचले न्यायालय और स्वामित्व, नियंत्रित तथा पर्याप्त रुप से वित्तपोषित निकाय ।
  • गैर-सरकारी संगठन भी शामिल हैं जो प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष रुप से पर्याप्त मात्रा में वित्तपोषित हैं ।
  • सरकार के पास यह शक्ति है कि वह ऐसे और निकायों को शामिल करने के लिए आदेश अथवा अधिसूचना जारी कर सकती है ।

नागरिक ही “सर्वेसर्वा’’

  • कुछ अपवादों को छोड़कर इस अधिनियम में नागरिकों को लगभग सभी जानकारी देने के लिए प्रावधान है ।
  • यह नागरिक को “सर्वेसर्वा’’ बनाता है ।
  • अब नागरिक सूचना प्राप्त करके और उसका आलोचनात्मक अध्ययन करके तथा सुविधाजनक प्रश्न उठाकर किसी भी कार्य का सामाजिक लेखापरीक्षा कर सकते हैं ।

सूचना प्रदान करने के लिए जन सूचना अधिकारी

  • अधिनियम के तहत प्राप्त आवेदनों को देखने के लिए सरकारी प्राधिकरणों द्वारा नियुक्त किए जाने वाले जन सूचना अधिकारी (22.9.2005 तक) ।
  • सरकारी प्राधिकारी की ओर से आवेदन प्राप्त करने के लिए नियुक्त किया जाने वाला सहायक जन सूचना अधिकारी (22.9.2005 तक) ।
  • प्रत्येक उप-प्रभाग/उप-जिले में नियुक्त किया जाने वाले सहायक जन सूचना अधिकारी (22.9.2005 तक) ।
  • सरकारी प्राधिकारण द्वारा विभाग/संगठन में प्रथम अपील-प्राधिकारी ।

सूचना का अधिकार

सूचना का अधिकार में शामिल है :-

  • कार्य, दस्तावेज, रिकार्ड का निरीक्षण ।
  • टिप्पणियां, उद्धरण, प्रमाणित प्रतियां लेना ।
  • सामग्री के प्रमाणित नमूने लेना ।
  • फ्लॉपी, टेप आदि में सूचना प्राप्त करना ।

सूचना की परिभाषा

सूचना का अर्थ है किसी भी रुप में सामग्री और इसमें शामिल है :-

  • रिकार्ड, दस्तावेज, ज्ञापन, ई-मेल, विचार, सलाह, आदेश, कार्य-पंजी, संविदा, रिपोर्ट, पेपर, सेंपल आदि ।

आवेदन फार्म भरना

  • निर्धारित फार्म
  • आवेदक अंग्रेजी में अथवा हिंदी में अथवा स्थानीय भाषा में लिखित रुप में अथवा इलेक्ट्रॉनिक विधि से आवेदन जमा कर सकते हैं ।
  • जन सूचना अधिकारी द्वारा नि:शक्त व्यक्तियों को अनुरोध लिखने में सहायता ।
  • सूचना प्राप्त करने के लिए कारण आवश्यक नहीं ।
  • उत्तर भेजने के लिए पत्राचार के पते के सिवाय आवेदक से संबंधित निजी विवरण आवश्यक नहीं ।

शुल्क

निम्नलिखित शुल्क राशि का निर्धारण, भारत सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किया गया है ।

  • आवेदन शुल्क : 10/- रुपए
  • अतिरिक्त पृष्ठ : ए-4 अथवा ए-3 आकार के लिए 2/- रुपए प्रति पृष्ठ
  • बड़ा आकार : वास्तविक प्रभार
  • सेंपल अथवा मॉडल : वास्तविक लागत
  • रिकार्ड का निरीक्षण : पहले घंटे के लिए कोई शुल्क नहीं और उसके बाद 5/- रुपए प्रति 15 मिनट
  • फ्लॉपी/डिस्केट : 50/-रुपए
  • गरीबी रेखा से नीचे रह रहे लोगों के लिए कोई शुल्क नहीं

भुगतान की विधि

शुल्क का भुगतान निम्नलिखित किसी भी रुप में किया जा सकता है :-

  • नकद
  • डिमांड ड्राफ्ट
  • बैंकर चैक

अनुरोध का निपटान

  • यदि मांगी गई सूचना जीवन अथवा स्वतंत्रता से संबंधित है, तो उसे 48 घंटों के अंदर दिया जाना है ।
  • अन्य मामलों में उत्तर 30 दिनों के अंदर दिया जाता है ।
  • यदि आवेदन एसएपीआईओ से प्राप्त होता है, तो इस अवधि में 5 दिन और अधिक लग सकते हैं ।
  • तीसरे पक्षकार के मामले में – 40 दिन

अपील

  • अपील के दो स्तर हैं ।
  • 30 दिनों के अंदर पहली अपील विभाग/संगठन के वरिष्ठ अधिकारी से होते हुए राज्य के जन सूचना अधिकारी को ।
  • 90 दिनों के अंदर दूसरी अपील केंद्रीय सूचना आयोग के समक्ष ।
  • अपील का निपटान 30 दिनों के अंदर होगा ।

तृतीय पक्षकार के संबंध में सूचना

  • जहां आवेदक द्वारा तीसरे पक्षकार के बारे में सूचना मांगी गई है, वहां तीसरे पक्षकार को अपना मामला 5 दिनों के अंदर पेश करने के लिए एक नोटिस भेजा जाएगा ।
  • 10 दिनों के अंदर सुनवाई का एक अवसर दिया जाएगा ।
  • तृतीय पक्षकार के पास अपील करने का अधिकार होगा ।

सूचना प्रकट करने से छूट

धारा-8 के अनुसार, निम्नलिखित प्रकार की सूचना को दिया जाना अनिवार्य नहीं होगा :-

  • भारत की सुरक्षा और अखंडता से संबंधित ।
  • न्यायालय द्वारा प्रकाशित किए जाने के लिए निषिद्ध ।
  • जिसके प्रकटन से संसद/विधान सभा के विशेषाधिकारों का हनन होता हो ।
  • व्यावसायिक रुप से गोपनीय जानकारी और बौद्धिक संपदा ।
  • न्यासी संबंध में प्राप्त सूचना ।
  • विदेशी सरकार से विश्वास में प्राप्त सूचना ।
  • जिसके प्रकटन से जीवन और स्वतंत्रता को खतरा पैदा होता हो ।
  • जिससे जांच प्रक्रिया बाधित होती हो ।
  • रिकार्ड अथवा विचार-विमर्श सहित मंत्रिमंडलीय दस्तावेज ।
  • व्यक्तिगत जानकारी जिसका किसी सार्वजनिक कार्य से कोई संबंध नहीं है ।
  • सूचना कापीराइट का उल्लंघन होता हो ।

शास्ति का प्रावधान

  • विलंब के प्रत्येक दिन के लिए 250 रुपए दर से जुर्माना लगाया जा सकता है जो अधिकतम 25,000 रुपए तक हो सकता है ।
  • निरंतर चूक के मामलों में जन सूचना अधिकारी के विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई के लिए निर्देश जारी किए जा सकते हैं ।
  • सुनवाई का अवसर दिया जाएगा ।

शीघ्र ध्यान देने की आवश्यकता

  • सभी अधिकारियों और स्टाफ सदस्यों को इस अधिनियम की ओर उचित ध्यान देने के प्रति संवेदनशील बनाया जाए ।
  • कार्यान्वयन के लिए आवश्यक प्रारंभिक उपाय अधिनियम में निर्धारित अनुसूची के अनुसार पूरे किए जाने चाहिए ।
  • इस अधिनियम के तहत प्राप्त अनुरोधों के निपटान के दौरान अधिकारियों को सावधान रहने की आवश्यकता है ।
  • इस अधिनियम के तहत प्राप्त सभी अनुरोधों का निर्धारित समय सीमा में निपटान किए जाने की आवश्यकता है ।

अन्य महत्वपूर्ण बातें

  • जन सूचना अधिकारी की ओर से सहायक जन सूचना अधिकारी आवेदन प्राप्त कर सकता है ।
  • प्रथम अपील प्राधिकारी को जन सूचना अधिकारी से वरिष्ठ होना चाहिए ।
  • जन सूचना अधिकारी को वरिष्ठ होना चाहिए जो कार्य पर नियंत्रण कर सके और सूचना प्राप्त कर सके क्योंकि उसे अर्ध-न्यायिक सूचना अधिकारी के रुप में करना होता है ।
  • भ्रम से बचने के लिए जन सूचना अधिकारी और अपील प्राधिकारी के बीच कार्य का स्पष्ट विभाजन होना चाहिए ।
  • पर्याप्त रुप से वित्त पोषित निकायों को सूचना के अधिकार के कार्यक्षेत्र में लाने के लिए अधिसूचित करना ।

आवेदन प्राप्त करने की व्यवस्था

  • कार्य को सरल बनाने के लिए आवेदन और शुल्क प्राप्त करने की उचित व्यवस्था की जानी चाहिए ।
  • सूचना काउंटर की स्थापना स्वागत काउंटर के निकट की जानी चाहिए ।
  • सहायक जन सूचना अधिकारी/ जन सूचना अधिकारी/अपील प्राधिकारी से जनता को संपर्क करने में आसानी होनी चाहिए ।
  • मुख्य प्रवेश द्वार पर जन सूचना अधिकारी/ सहायक जन सूचना अधिकारी के नाम, कमरा संख्या आदि को दर्शाने वाला बोर्ड लगा होना चाहिए ।

सचिवों/विभागाध्यक्षों/मुख्य कार्यकारी अधिकारियों की भूमिका

  • जन सूचना अधिकारी/ सहायक जन सूचना अधिकारी की नियुक्ति करना ।
  • प्रथम अपील प्राधिकारी की नियुक्ति करना ।
  • अधिनियम के कार्यक्षेत्र में लाने के लिए उन निकायों का अभिनिर्धारण करना जिनका पर्याप्त रुप से वित्तपोषण किया गया है ।
  • अधिनियम के प्रावधानों के बारे में व्यापक प्रचार-प्रसार करना ।
  • अधिकारियों और स्टाफ को संवेदनशील बनाने के लिए आंतरिक कार्यशालाएं आयोजित करना
  • आवेदन/शुल्क आदि प्राप्त करने के लिए समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करना ।
  • मार्गदर्शन के लिए अपेक्षित संख्या में काउंटरों की व्यवस्था करना ।
  • स्वयं सूचना तैयार करना और अधिकतम सीमा तक उसका प्रसार करना ।
  • सभी संबंधित अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर निगरानी और नियंत्रण रखना ।






वेबसाइट लिंक्स

नीचे दिए गये बटन को दबा कर आप इस वेबसाइट को देख सकते हैं:

चालू योजनाएं

विभिन्न क्षेत्र / खंड मे निम्नलिखित योजनाएं चालू स्थिति में हैं | आवेदन करने ऑर अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें | हर योजना की अपनी शर्तें हैं |

नई पहल

प्रदर्शनी केंद्र, ताज एक्‍सप्रेस मार्ग, ताज अंतर्राष्‍ट्रीय हवाई अड्डा, सामाजिक – सांस्‍कृतिक केंद्र, परिवहन केंद्र, नाइट सफारी इत्यादि के बारे में जानने के लिए यहाँ किल्क करें

ग्रेटर नोएडा वेबसाइट

ग्रेटर नोएडा वेबसाइट अंग्रेजी ऑर हिंदी में उप्लब्ध हैं: अंग्रेजी के लिए यहां क्लिक करें ऑर हिंदी के लिए यहां क्लिक करें

भवन नियमावली

भवन नियमावली के लिए यहां क्लिक करें

आवंटी खाता

हमारे वेब सिस्ट्म में अपने आवंटी खाता को देखने के लिए यहां क्लिक करें

शिकायत दर्ज करें

नई शिकायत दर्ज करें
पूर्व की गयी शिकायत की स्थिति


विशेष लिंक्स
इस वेबसाइट के विशेष लिंक्स नीचे दिए हैं | आप हम से इस संपर्क फार्म् द्वारा संदेश भेज सकते हैं |
ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण

169 चितवन एस्टेट्
सेक्टर गामा - II
ग्रेटर नोएडा, गौतम बुध नगर, उतर प्रदेश 201308
+91-120 232-6150 (दूरभाष)
+91-120 232-6151 (दूरभाष)
+91-120 232-6335-7 (दूरभाष)
+91-120 232-6334, 6143, 6145 (फॅक्स)

नवीनतम अपडेट
यहाँ नए टेण्डर, सार्वजनिक सूचनाएं, चालू योजनाएं ऑर नई पहल के बारे में जानकारी प्राप्त करें:

प्रकाशनाधिकार (Copyright)

प्रकाशनाधिकृत © 1998-2009 ग्रेटर नोएडा ऑद्योगिक विकास प्राधिकरण

परित्यागकर्ता (Disclaimer)
ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण की हिन्दी वेबसाइट २१.०७.२००९ को परीक्षण स्वरूप में लाँच की जा रही है। वेबसाइट के उपभोक्ता एवं अतिथि गण से अनुरोध है कि इस वेबसाइट का इस्तेमाल ध्यानपूर्वक करें एवं किसी भी जानकारी के विषय में दुविधा याँ संदेह होने पर प्राधिकरण से संपर्क करने के बाद ही उस पर क्रिया करें या कोई कदम उठाएं अन्यथा ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण की इस संदर्भ मे कोई जिम्मेदारी मान्य नही होगी।

नवीनीकरण (Last updated)

Mon, 23 Jun 2014 00:30:02 -0400